साँप भी मर जाये और लाठी भी न टूटे मुहावरे का क्या अर्थ है। / Sanp Bhi Mar Jaye Aur Lathi Bhi na Toote Meaning in Hindi.

Sanp Bhi Mar Jaye Aur Lathi Bhi na Toote, Muhawara Meaning in Hindi.

हिंदी मुहावरा : "साँप भी मर जाये और लाठी भी न टूटे"।

“साँप भी मर जाये और लाठी भी न टूटे” हिंदी भाषा का एक बहुचर्चित मुहावरा है। जिसे हिंदी भाषी लोग प्रायः अलग अलग संदर्भो में प्रयोग करते है। जब किसी व्यक्ति को अपना कोई बहुत जरुरी कार्य अथवा अपने लाभ का कोई कार्य किसी अन्य व्यक्ति के जरिये पूरा करना हो और उसको ये पता भी न लगने देना हो।

मतलब की ये, किसी कार्य के प्रत्यक्ष दिखने वाले लाभ के पीछे भी कोई लाभ सिद्ध हो रहा है और यह अप्रत्यक्ष सा लाभ किसी के लिए बहुत जरुरी है। इसी अदृश्य लाभ को सिद्ध करने का प्रयोजन एक मुहावरे के जरिये संदर्भित किया जाता है जिसे कहते है कि “साँप भी मर जाये और लाठी भी न टूटे”

Sanp Bhi Mar Jaye Aur Lathi Bhi na Toote, Muhawara Meaning in Hindi.

  • हिंदी मुहावरा : “साँप भी मर जाये और लाठी भी न टूटे”।
  • हिंदी में अर्थ : बिना कुछ गँवाये अपना स्वार्थ सिद्ध कर लेना /अपना काम निकाल लेना और किसीको कानोकान खबर भी न लगने देना।

“साँप भी मर जाये और लाठी भी न टूटे” मुहावरें का वाक्य प्रयोग / Sanp Bhi Mar Jaye Aur Lathi Bhi na Toote Muhavare ka Vaky Prayog.

उदाहरण :
राहुल और राजू दोनों अब दोस्त नहीं है। ऐसा समझिये कि दोनों एक दूसरे के लिए जानी दुश्मन है। किसी बात को लेकर दोनों के रिश्तों में बहुत ही कड़वाहट आ गयी है। राजू का एक दोस्त है जो राहुल से अपने किसी पुराने झगडे का बदला लेने का मौका ढूंढ रहा था।

ऐसे में राजू के दोस्त ने राहुल से बदला लेने का अच्छा मौका देखा। उसने एक योजना बनायीं, जिसमे वह राजू के जरिये राहुल से अपना पुराना हिसाब चुक्ता करेगा। उसने राजू को राहुल के खिलाफ फिर से भड़काया और दोनों में मारपीट करवा दी।

इस तरह राजू के जरिये उसके दोस्त ने राहुल से अपना पुराण बदला भी ले लिया और किसी को पता भी नहीं चला। इसे ही कहते है “साँप भी मर गया और लाठी भी नहीं टूटी”। यहाँ सांप से मतलब है राजू के दोस्त का वह पुराना बदला जो राहुल से चुकता करना था। यहाँ राजू के दोस्त का स्वार्थ भी सिद्ध हो गया और किसीको पता भी नहीं चला।

 

Read More …

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here